जानिए गाय के गोबर से बनने वाले सामान और उससे होने वाली आय के बारे में।

देश में पशुपालन के जरिए आय अर्जित करने वाले लोगों का हिस्सा खासा बड़ा है। लेकिन इनमें से भी ज्यादातर लोगों को यही लगता है कि पशु के दूध के जरिए ही आय अर्जित की जा सकती है। पर ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। अगर नजरिया सही हो तो केवल दूध ही नहीं गोबर के जरिए भी कमाई हो सकती है। हाल ही के दिनों में गाय के गोबर के उपयोग से कई तरह के उत्पाद बनाए जाने लगे हैं। इन उत्पादों की मांग बाजार में बहुत अधिक बढ़ भी गई है। 

जिसके जरिए लोग मोटी कमाई कर रहे हैं। आज हम अपने इस लेख और वीडियो के अंदर इसी तरह की जानकारी साझा करने वाले हैं। हम आपको बताएंगे कि आप गाय के गोबर का उपयोग क्या कर सकते हैं और इसके इस्तेमाल से आपकी कितनी कमाई हो सकती है। ऐसे में अगर आप एक पशुपालक हैं और गाय के गोबर के इस्तेमाल से जुड़ी हुई किसी भी प्रकार की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो आप हमारे इस लेख पर अंत तक बने रहें। 

गोबर से तैयार बनने वाले उत्पाद 

गाय के गोबर से कई तरह के उत्पाद बनाए जाते हैं। लेकिन हर उत्पाद के लिए गाय के गोबर को अलग प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है। आइए जानते हैं गाय के गोबर से क्या – क्या बन सकता है। 

  • गाय के गोबर के जरिए हाल ही में कई उत्पाद तैयार किए जाने लगे हैं जैसे घर की सजावट का सामान, फोटो फ्रेम, दीवार की घड़ी, ट्रॉफी आदि। आपको बता दें इन सभी सामान को तैयार करने के लिए गोबर को सुखाकर चूरा बनाया जाता है। इसके बाद गोबर और अन्य पदार्थों की सहायता से इसे लकड़ी के जैसे दिखने वाली वस्तुएं तैयार की जाती हैं। इन सामान को तैयार करने के लिए गोबर को 24 घंटे के अंदर ही एक सांचे में डाल दिया जाता है और सूखा दिया जाता है। इसके बाद गोबर का चूरा तैयार होता है और फिर उप्ताद बनाने की प्रक्रिया आरंभ होती है। 
  • गाय के गोबर से ईंट तक तैयार की जाती है। इसमें नदी की मिट्टी, चूना और गाय के गोबर का इस्तेमाल किया जाता है। आपको बता दें कि इसके अलावा लेंटर की सामग्री, प्लास्टर का मसाला और दीवार एंव फर्श को लीपने के लिए भी सामग्री तैयार की जाती है। इसे गोक्रीट तकनीक कहा जाता है। 
  • गाय के गोबर के लिक्विड को अलग करके और सॉलिड भाग को अलग करके भी इस्तेमाल में लिया जाता है। इसका सूखा भाग जैविक खाद के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। वहीं लिक्विड वाला भाग फसल को पोषक तत्व देने के लिए किया जाता। इसमें जैविक खाद 5 से 10 रुपए किलो और लिक्विड भाग 10 रुपए किलो तक बेचा जा सकता है। 
  • गोबर के जरिए पत्तल गमले जैसे सामान भी बनाए जाते हैं। इसके अलावा हाल ही के दिनों में गोबर के जरिए की दूसरा सामान भी बनाया जाता है। 

गोबर से सामान बनाने के फायदे 

गोबर के जरिए अगर किसान पशुपालक भाई सामान बनाना शुरू करते हैं तो इससे कई तरह की चीजें बनाई जाती हैं। जिसके जरिए प्रदूषण कम हो सकता है। इसके अलावा ट्रॉफी जैसी चीजों के लिए बहुत से पेड़ काटे जाते हैं। अगर गोबर के जरिए ये चीजे बनाई गई तो इससे न केवल पेड़ कम कटेंगे बल्कि प्लास्टिक का इस्तेमाल भी घट जाएगा। इन सबके अलावा किसान और पशुपालक भाइयों की आय में भी इजाफा हो जाएगा।