बकरी पालन

feature-image

देश में पशुपालन करने वाले बहुत से लोग अक्सर पशुपालन में किस – किस तरह के पशु का पालन करें ये समझ ही नहीं पाते। ऐसे में आज हम आपके लिए लेकर आ गए हैं ये लेख और वीडियो। इसमें हम अपने पशुपालक भाइयों को बताएंगे कि बकरी पालन कैसे किया जाता है, इसमें कितना खर्च आता है और इसके जरिए कितनी आय अर्जित की जा सकती है।

 

इसके अलावा कितनी जगह पर आप बकरी पालन का काम शुरू कर सकते हैं। अगर आप भी बकरी पालन करना चाहते हैं और इससे जुड़ी किसी भी प्रकार की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो आप हमारे इस लेख और वीडियो पर अंत तक बने रहें। 

ये भी पढ़ें: मानसून में होने वाले खुरपका मुहंपका रोग के लक्षण और घरेलू उपाय।

बकरी पालन के लिए फार्म का निर्माण कैसे कराएं

पशुपालक भाई अगर बकरी पालन का काम शुरू कर रहे हैं तो सबसे पहले उन्हें एक फार्म की जरूरत होगी। इस फार्म को कैसे बनाना चाहिए या कितनी जमीन होने पर बकरी पालन कर सकते हैं। आइए जानते हैं। 

  • अगर आप फार्म शुरू करना चाहते हैं तो आपके पास कम से कम 120 गज जमीन या इतनी ही बड़ी छत होनी चाहिए
  • बकरी पालन के लिए फार्म जमीन से दो या तीन फुट ऊपर होना चाहिए। इससे बारिश के दिनों में फार्म के अंदर पानी नहीं जाएगा। 
  • बकरी पालन के लिए जब शेड बनाए तो उसका निर्माण A शेप में या झोपड़ी की तरह होनी चाहिए। इसके अलावा एक बकरी पर 12 वर्ग फुट की जगह होनी अनिवार्य है। 
  • फार्म में क्रॉस वेंटिलेशन होना चाहिए। फार्म छायादार होना चाहिए। फार्म की साफ सफाई रखें और तापमान अधिक नहीं हो इसके इंतजाम रखें। 
  • फार्म के अंदर बकरियों के खाने पीने की उचित व्यवस्था होनी चाहिए। आप चाहें तो इसे ऑटोमेटिक बना सकते हैं। 

बकरी पालन में कहां और कितना निवेश करना चाहिए

बकरी पालन में निवेश कहां अधिक करना चाहिए। इस बात की जानकारी लोगों को लगातार होनी चाहिए। आपको बता दें कि अमूमन लोग बकरी पालते समय फार्म को आधुनिक बनाने में लग जाते हैं। ये एक सबसे बड़ी गलती है। आपका फार्म भले ही आधुनिक न हो लेकिन वहां  अच्छी नस्ल की बकरियां होनी चाहिए। क्योंकि आपको फार्म बेचकर नहीं बल्कि बकरियां बेचकर आय कमानी है। 

ये भी पढ़ें: जानिए क्या है मानसून में थनैला रोग फैलने की वजह, लक्षण और उपचार (वीडियो)

बकरी पालन से आय 

आपको बता दें कि एक बकरी के जरिए पशुपालन करने वालों को करीब 45 हजार रुपए तक का मुनाफा हो जाता है। यानी अगर आप 10 बकरियों से भी ये काम शुरू करते हैं तो आपको कम से कम 450000 का मुनाफा हो सकता है। इसके अतिरिक्त आपकी बकरियां ब्याएंगे और उसके बाद बकरो की संख्या बढ़ेगी उससे अधिक आय होने लगेगी। 

बकरी पालन से जुड़ी कुछ सावधानियां 

बकरी पालन में समय – समय पर आपको उनका वैक्सीनेशन कराना भी जरूरी है। इसके अलावा जब आप ये फार्म खोले तो बाजार में किस नस्ल के बकरों की मांग है। ये जरूर देख लें। इसके आधार पर ही बकरे खरीदें, तभी आप अधिक मुनाफा कमा पाएंगे। 

बकरियों के खानपान में आप हरा चारा, गेहूं, चना, मसूर की दाल का भूसा  और संतुलित आहार दे सकते हैं। इसमें नीम के पत्ते आदि भी दे सकते हैं। 

ये भी पढ़ें: पंढरपुरी भैंस की संपूर्ण जानकारी पढ़ें

… और पढ़ें arrow

जानिए Goat Farming या बकरी पालन में निवेश, संसाधन और आय के बारे में।

feature-image

देश में पशुपालन करने वाले बहुत से लोग अक्सर पशुपालन में किस – किस तरह के पशु का पालन करें ये समझ ही नहीं पाते। ऐसे में आज हम आपके लिए लेकर आ गए हैं ये लेख और वीडियो। इसमें हम अपने पशुपालक भाइयों को बताएंगे कि बकरी पालन कैसे किया जाता है, इसमें कितना खर्च आता है और इसके जरिए कितनी आय अर्जित की जा सकती है।

इसके अलावा कितनी जगह पर आप बकरी पालन का काम शुरू कर सकते हैं। अगर आप भी बकरी पालन करना चाहते हैं और इससे जुड़ी किसी भी प्रकार की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो आप हमारे इस लेख और वीडियो पर अंत तक बने रहें। 

ये भी पढ़ें: मानसून में पशु की बंद पड़ने की समस्या की वजह, लक्षण और उपाय

बकरी पालन के लिए फार्म का निर्माण कैसे कराएं

पशुपालक भाई अगर बकरी पालन का काम शुरू कर रहे हैं तो सबसे पहले उन्हें एक फार्म की जरूरत होगी। इस फार्म को कैसे बनाना चाहिए या कितनी जमीन होने पर बकरी पालन कर सकते हैं। आइए जानते हैं। 

  • अगर आप फार्म शुरू करना चाहते हैं तो आपके पास कम से कम 120 गज जमीन या इतनी ही बड़ी छत होनी चाहिए
  • बकरी पालन के लिए फार्म जमीन से दो या तीन फुट ऊपर होना चाहिए। इससे बारिश के दिनों में फार्म के अंदर पानी नहीं जाएगा। 
  • बकरी पालन के लिए जब शेड बनाए तो उसका निर्माण A शेप में या झोपड़ी की तरह होनी चाहिए। इसके अलावा एक बकरी पर 12 वर्ग फुट की जगह होनी अनिवार्य है। 
  • फार्म में क्रॉस वेंटिलेशन होना चाहिए। फार्म छायादार होना चाहिए। फार्म की साफ सफाई रखें और तापमान अधिक नहीं हो इसके इंतजाम रखें। 
  • फार्म के अंदर बकरियों के खाने पीने की उचित व्यवस्था होनी चाहिए। आप चाहें तो इसे ऑटोमेटिक बना सकते हैं। 

बकरी पालन में कहां और कितना निवेश करना चाहिए

बकरी पालन में निवेश कहां अधिक करना चाहिए। इस बात की जानकारी लोगों को लगातार होनी चाहिए। आपको बता दें कि अमूमन लोग बकरी पालते समय फार्म को आधुनिक बनाने में लग जाते हैं। ये एक सबसे बड़ी गलती है। आपका फार्म भले ही आधुनिक न हो लेकिन वहां  अच्छी नस्ल की बकरियां होनी चाहिए। क्योंकि आपको फार्म बेचकर नहीं बल्कि बकरियां बेचकर आय कमानी है। 

ये भी पढ़ें: मानसून में रोगी पशु की देखभाल का तरीका और जरूरी सावधानियां।

बकरी पालन से आय 

आपको बता दें कि एक बकरी के जरिए पशुपालन करने वालों को करीब 45 हजार रुपए तक का मुनाफा हो जाता है। यानी अगर आप 10 बकरियों से भी ये काम शुरू करते हैं तो आपको कम से कम 450000 का मुनाफा हो सकता है। इसके अतिरिक्त आपकी बकरियां ब्याएंगे और उसके बाद बकरो की संख्या बढ़ेगी उससे अधिक आय होने लगेगी। 

बकरी पालन से जुड़ी कुछ सावधानियां 

  • बकरी पालन में समय – समय पर आपको उनका वैक्सीनेशन कराना भी जरूरी है। इसके अलावा जब आप ये फार्म खोले तो बाजार में किस नस्ल के बकरों की मांग है। ये जरूर देख लें। इसके आधार पर ही बकरे खरीदें, तभी आप अधिक मुनाफा कमा पाएंगे। 
  • बकरियों के खानपान में आप हरा चारा, गेहूं, चना, मसूर की दाल का भूसा  और संतुलित आहार दे सकते हैं। इसमें नीम के पत्ते आदि भी दे सकते हैं।

    ये भी पढ़ें: जानिए गाय को गर्भावस्था में ड्राई करना क्यों है जरूरी?

… और पढ़ें arrow

जानिए लाल मक्के की खेती की लागत, लाभ और अन्य जरूरी जानकारी

feature-image

मक्का उन अनाजों में से है जिसका सेवन इंसान ही नहीं बल्कि पशु –  पक्षी भी करते हैं। ये भी एक सबसे बड़ा कारण है, जिसकी वजह से मक्के की खेती भारत में अधिक की जाती है। पर हाल ही के दिनों में एक नए मक्के ने लोगों का ध्यान अपनी ओर खीचा है। दरअसल हम बात कर रहे हैं लाल मक्के के बारे में। लाल मक्के की खेती हाल ही के दिनों में बड़े स्तर पर की जा रही है।

लेकिन बावजूद इसके लाल मक्के की मांग को पूरा कर पाना संभव नहीं हो पा रहा है। ऐसे में अगर किसान भाई अपनी आय बढ़ाना चाहते हैं या फिर लाल मक्के की खेती करना चाहते हैं तो वे हमारे इस लेख और वीडियो को अंत तक देख सकते हैं। हम इस वीडियो के अंदर हम इन सभी विषयों पर बात करेंगे जो लाल मक्के की खेती से संबंधित है। अगर आप इसकी जानकारी हासिल करना चाहते है तो आप हमारे इस लेख पर अंत तक बने रहें। और पढ़ें

कैसे तैयार हुआ लाल मक्का और क्यों करें इसकी खेती

लाल मक्के को तैयार करने में करीब 5 साल का समय लगा है और इसे हाइब्रिड तकनीक के जरिए पैदा किया गया है। आपको बता दें कि लाल मक्का न केवल बाजार में अधिक महंगा है, बल्कि इसके अंदर पाए जाने वाले पोषक तत्वों की सूची भी काफी लंबी है। ये सभी कारण काफी है समझने के लिए कि लाल मक्के की खेती किस तरह फायदेमंद हो सकती है। 

कहां और किस मौसम में लगाएं लाल मक्का

लाल मक्के की फसल को देश के पहाड़ी क्षेत्रों को छोड़कर  हर जगह लगाया जा सकता है। आपको बता दें कि इस मक्के की पैदावार करने के लिए 25 से 40 डिग्री तापमान की जरूरत होती है। जून से जुलाई के बीच का समय इसे लगाने के लिए बिल्कुल उपयुक्त माना जाता है। जानकारी के लिए बता दें कि इस लाल मक्के की फसल की ऊंचाई करीब 7 से 9 फीट तक हो सकती है। और पढ़ें

लाल मक्के का उत्पादन कब ले सकते हैं

किसान भाइयों को अक्सर फसल का उत्पादन लेने के लिए एक लंबे समय का इंतजार करना पड़ता है। लेकिन इस फसल का उत्पादन लेने के लिए लंबा इंतजार करने की जरूरत नहीं है। आपको बता दें कि ये फसल महज 100 से 110 दिन के अंदर पूरी तरह तैयार हो जाती है। यानी की 4 महीने से भी कम में आपकी फसल बाजार में बेचने के लिए तैयार हो जाती है। 

लाल मक्के से जुड़ी जरूरी बातें 

  • अगर आप एक हेक्टेयर भूमि पर इसकी खेती करते हैं तो आप इससे 40 से 50 क्विंटल तक उत्पादन ले सकते हैं। 
  • इस लाल मक्के की कीमत सामान्य मक्के से काफी अधिक होती है. वहीं इसमें प्रोटीन की मात्रा भी अधिक होती है इसके साथ ही लाल मक्के में एंटी एजिंग गुण और एंटी कैंसर गुण भी मौजूद होते हैं। इसके इन्हीं गुणों की वजह से लगातार इसकी मांग बढ़ती जा रही है। 
  • अगर आप भी इसकी खेती करना चाहते हैं तो कर सकते हैं लाल मक्के के बीज आपको आसानी से ऑनलाइन मिल जाएंगे। इसमें किसान की लाग उसकी भूमि के ऊपर निर्भर करेगी। और पढ़ें
… और पढ़ें arrow

जानिए रामबुतान की खेती का तरीका और इससे होने वाली आय

feature-image

खेती में लगे हुए किसानों के सामने अक्सर ये चुनौती होती है कि वो किस चीज की खेती करें, जिससे लंबे समय तक आय अर्जित हो सके। इसी दुविधा को दूर करने के लिए हम ले आए हैं, रामबुतान। रामबुतान एक ऐसा फल है जिसकी खेती कर एक किसान महज एक पेड़ से ही 70 हजार रुपए तक कमा सकता है। आपको बता दें कि इस फल की उत्पत्ति सबसे पहले मलेशिया से हुई थी।

इसी के बाद ये दुनिया भर में फैलने लगा। ये एक ऐसा फल है जिसकी खेती कर किसान लगभग 50 साल तक कमाई कर सकते हैं। यानी की एक बार की मेहनत करीब 50 साल तक की कमाई करा देगी। आज हम अपने इस लेख और वीडियो के माध्यम से आपको बताएंगे कि आप इसकी खेती कैसे कर सकते हैं और इसके जरिए कितनी आय अर्जित हो सकती है। चलिए विस्तार से जानते हैं इस बारे में।  

ये भी पढ़ें: गिर गाय की संपूर्ण जानकारी

रामबुतान कहां पाया गया था

सबसे पहले आपको बता दें कि रामबुतान फल की उत्पत्ति मलेशिया से हुई थी। इसके बाद ही ये दुनिया के अलग – अलग कोनों में उगाया जाने लगा। 

रामबुतान की खेती के लिए जलवायु 

अब बात करें कि इसकी खेती किस जगह पर की जा सकती है। तो बता दें कि इसकी खेती के लिए एक उपयुक्त तापमान होना चाहिए। अगर आपकी जगह का तापमान 20 से 35 डिग्री के बीच है तो ये फसल आप लगा सकते हैं। 

ये भी पढ़ें: देसी गाय की संपूर्ण जानकारी

रामबुतान की खेती कैसे करें 

  • यूं तो रामबुतान की 20 से ज्यादा किस्में पाई जाती हैं। लेकिन इसकी कुछ किस्में काफी ज्यादा पसंद की जाती है। 
  • इसकी उपज को पैदा करने के लिए जमीन की पहले अच्छे से जुताई कर लेनी चाहिए। 
  • आप इसकी खेती के लिए सीड्स का इस्तेमाल भी कर सकते हैं या किसी नर्सरी से कॉलम या पौधे भी सीधे ले सकते हैं। अगर आप इसे सीड्स से ही बोना शुरू करते हैं, तो ये बड़ने में करीब 7 साल का समय लगता है। वहीं पौधा लगाने पर इससे 3 साल के भीतर ही फल प्राप्त किए जा सकते हैं। 
  • अगर आप बड़े स्तर पर भी इसकी खेती कर रहे हैं तो ध्यान रखें कि एक पौधे से दूसरे पौधे के बीच कम से कम 10 मीटर का गैप होना चाहिए। वरना ये पेड़ पूरी तरह से नहीं पनपेगा। जानकारों की मानें तो आप एक एकड़ भूमि पर अधिकतम 30 पौधे या पेड़ ही लगाए। ऐसा करने से फलों की पैदावार अधिक होगी। 
  • इसके अलावा रामबुटान की खेती में कुछ अलग तरह के संसाधनों की या देखरेख की जरूरत नहीं होती। बस आपको सालाना खाद और कभी – कभी कीटनाशक दवा की आवश्यकता पड़ती है। वहीं इन्हें पानी आप ड्रिप सिस्टम से भी दे सकते हैं और अन्य किसी तरीके से भी। 

रामबुतान की खेती से कमाई 

  • अब बात करें इसकी खेती के फायदे के बारे में तो बता दें कि इसे एक बार लगाने पर आप इससे 50 साल तक फल ले सकते हैं। 
  • ये फल उस समय हार्वेस्टिंग के जून से अगस्त के बीच में हार्वेस्ट होता है। इस समय अक्सर बाजार में ज्यादा फल नहीं होते और जिसके चलते ये आसानी से बिक भी जाते हैं। 
  • इस फल की कीमत थोक में 200 रुपए किलो है, वहीं अगर आप इसकी पैकेजिंग करके बेचते हैं तो इसके जरिए आप एक किलो पर 350 रुपए तक भी कमा सकते हैं। 
  • इसके एक पेड़ से 7 साल बाद आपको 200 किलो तक फल प्राप्त होते हैं। यानी कि अगर आप 200 किलो को 350 रुपए से गुणा करें तो महज एक पेड़ से ही आप 70 हजार रुपए तक कमा सकते हैं। 
  • इन्हें लगाने में और इनकी देखरेख का खर्च अधिक नहीं है। आपको इसका एक पौधा करीब 50 से 100 रुपए के बीच मिल जाएगा। अब आप कितने पौधे लगाते हैं इस बात पर ही आपका खर्च निभर करता है। इसके अलावा खाद और कीटनाशक आदि पर 20 हजार तक खर्च आ सकता है। 
  • ध्यान रहे जो किसान भाई लंबे समय में आय अर्जित करना चाहते हैं वो लोग ही इसकी खेती करें। अगर किसान भाई सही तरह से इसकी खेती करते हैं तो महज एक पेड़ से 70 हजार रुपए तक कमाए जा सकते हैं। ऐसे में जितने ज्यादा पेड़ उतनी अधिक आय।

    ये भी पढ़ें: एचएफ गाय की संपूर्ण जानकारी पढ़ें
… और पढ़ें arrow

जानिए क्या है काली जीरी और कैसे ये पशु का दूध बढ़ाने में आती है काम।

feature-image

किसान और पशुपालक भाइयों के सामने पशु को स्वस्थ रखने और  उनकी उत्पादकता को बढ़ाने जैसी कई चुनौतियां आती हैं। ऐसे में इन चुनौतियों से पार पाने के लिए किसान भाई अक्सर कई तरह के उपाय अपनाते हैं। लेकिन कुछ लोग ऐसे खास उपायों को नहीं जानते जो उनकी समस्याओं को पूरी तरह खत्म कर सकते हैं। ऐसे ही एक उपाय या औषधि हम लेकर आ गए हैं आपके सामने। दरअसल हम बात कर रहे हैं काली जीरी के बारे में। 

काली जीरी कहने को एक मसाला है लेकिन इसका इस्तेमाल खाने पीने की सामान में नहीं किया जाता। बल्कि इसका उपयोग पशुओं को कई तरह की समस्याओं से बचाने के लिए और रोगों से ठीक करने के लिए किया जाता है। इसके अलावा काली जीरी के जरिए पशु की उत्पादकता को भी बढ़ाया जा सकता है। आज हम पशुपालक भाइयों को यही बताने वाले हैं कि काली जीरी का उपयोग कब – कब किया जा सकता है। अगर आप काली जीरी के इस्तेमाल से जुड़ी किसी भी प्रकार की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो आप हमारे इस लेख और वीडियो पर अंत तक बने रहे।  

ये भी पढ़ें: देसी गाय और विदेशी गाय की पूरी जानकारी

क्या है काली जीरी

काली जीरी कहने को एक मसाला है। लेकिन इसका उपयोग खाने में बिल्कुल भी नहीं किया जाता। आपको बता दें कि पशुओं को काली जीरी कई तरह से फायदा पहुंचा सकता है। 

काली जीरी किन समस्याओं में आती है काम

अगर पशु को कब्ज, पेशाब न आने, दस्त , स्किन समस्या , या फिर मुहं और नाक से पानी गिरने की समस्या हो जाए तो इस समस्या से पशु को ठीक करने के लिए आप काली जीरी का उपयोग कर सकते हैं। 

इन सभी समस्याओं में पशु को काली जीरी खिलाने पर पशु की स्थिति बेहतर हो जाती है। लेकिन ज्यादातर पशु इसे नहीं खाते क्योंकि ये खाने में बेहद कड़वी होती है। ऐसे में पशु को गुड़ या अन्य किसी आहार या दाने के साथ काली जीरी दी जा सकती है। 

ये भी पढ़ें: जर्सी गाय की संपूर्ण जानकारी

क्या काली जीरी से दूध बढ़ता है

अब अगर बात करें कि काली जीरी से दूध कैसे बढ़ता है तो बता दें कि इसका सीधा असर दूध की उत्पादकता पर नहीं पड़ता। लेकिन ये दूध बढ़ाने का काम कर सकता है।

दरअसल ये पशु की डीवॉर्मिंग करने के लिए मुख्य रूप से इस्तेमाल किया जाता है। अब अगर देखा जाए तो पशु के पेट में कीड़े होने पर दिया जाता है। यही कीड़े पशु को कमजोर कर देते हैं और पशु की दूध उत्पादन क्षमता को कम करने का काम करते हैं। 

लेकिन जब पशु को काली जीरी दी जाती है तो इससे उसके ये पेट के कीड़े मर जाते हैं और पेट पूरी तरह साफ हो जाता है। जिससे पशु स्वस्थ होता है और उसकी दूध उत्पादकता भी बढ़ जाती है 

ये भी पढ़ें: कांकरेज गाय की पहचान, कांकरेज गाय की कीमत और कांकरेज गाय कितना दूध देती है इससे जुड़ी तमाम जानकारियां

… और पढ़ें arrow