मानसून में होने वाले खुरपका मुहंपका रोग के लक्षण और घरेलू उपाय।

featured-image

मानसून के दौरान पशुओं के बीमार पड़ने का खतरा सबसे अधिक रहता है। बारिश के दिनों में कई तरह के परजीवी पैदा हो जाते हैं, जो पशुओं को अपनी चपेट में ले लेते हैं। आज हम मानसून के दौरान पशुओं में होने वाले खुरपका मुंहपका रोग के बारे में बताने वाले हैं। 

यह रोग यूं तो बेहद साधारण होता है, लेकिन यह काफी संक्रामक है और रोगी पशु से स्वस्थ पशु में भी बहुत तेजी से फैलता है। आज हम अपने इस लेख के माध्यम से जानेंगे कि मानसून में खुरपका मुहंपका होने की संभावना अधिक हो जाती है। इसके अलावा खुरपका के लक्षण और उपचार से जुड़ी जानकारी भी हासिल करेंगे। 

ये भी पढ़ें: मानसून में होने वाले खुरपका मुहंपका रोग के लक्षण और घरेलू उपाय।

खुरपका मुहंपका रोग क्या है 

यह चार पैरों वाले जीवों में होने वाला एक रोग है, जिसे अंग्रेजी भाषा में फुट एंड माउथ डिजीज के नाम से भी जाना जाता है। इस रोग के अंदर पशु के पैरों और मुंह में घाव बन जाते हैं। जिसकी वजह से पशु को न केवल चलने में बल्कि खाने पीने में भी खासी दिक्कत होने लगती है। इस रोग की वजह से पशु अक्सर कमजोर हो जाते हैं और लंगड़ा कर चलने लगते हैं। आइए अब खुरपका मुंहपका रोग से जुड़ी कुछ अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां हासिल करें।  

खुरपका मुहंपका रोग के लक्षण 

मानसून के समय इस रोग के होने की संभावना काफी अधिक हो जाती है।  यूं तो यह रोग मुंह और पैरों से जुड़ा है। लेकिन कई बार यह रोग पशु के थनों तक को प्रभावित कर देता है। इस रोग की वजह से पशुओं के खुर और मुंह में गंभीर घाव बन जाते हैं। इसके अलावा कुछ अन्य लक्षण भी हैं जो कुछ इस प्रकार हैं। 

  1. खुरपका मुहंपका में पशु के शरीर का तापमान काफी बढ़ जाता है और यह दो से तीन दिन तक बढ़ा रहता है। 
  2. पशु के मुंह से लार निकलती है जो चिपचिपी, गाढ़ी और झागदार हो जाती है। 
  3. मुहंपका के अंदर पशु के मुंह में छाले हो जाते हैं. जिसकी वजह से पशु सही तरह से खान पान नहीं कर पाते। 
  4. खुरपका की स्थिति में कई बार पशु बहुत ज्यादा लंगड़ा कर चलते हैं और कई बार तो चल ही नहीं पाते। 
  5. इस रोग के चलते पशु की दूध उत्पादन क्षमता घट जाती है।

    ये भी पढ़ें: जानिए क्या है मानसून में थनैला रोग फैलने की वजह, लक्षण और उपचार (वीडियो)

खुरपका मुंहपका रोग से बचाने के तरीके

  • मानसून में पशु के पैरों की समय समय पर सफाई करते रहें। 
  • पशु को मानसून के समय खुले में चरने के लिए न छोड़ें। 
  • गाय भैंस को संक्रमित पशुओं से पूरी तरह दूर रखें। 
  • संक्रमित गाय भैंस के साथ आहार और पानी न पिलाएं। 
  • जिस स्थान पर पशु रहता हो वहां गंदगी पैदा होने से रोकें और समय – समय पर सफाई करते रहें। 

खुरपका मुहंपका रोग के घरेलू उपाय और इलाज 

खुरपका मुहंपका रोग से पशु का इलाज करने के लिए इस रोग के लक्षणों की जानकारी होनी चाहिए। अगर पशुपालकों ने रोग की पहचा कर ली है तो वे अपने पशुओं पर घरेलू उपाय आजमा सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे कि किसी भी घरेलू उपाय के जिरए यह समस्या ठीक हो जाए। ये कहना थोड़ा मुश्किल है। इसलिए रोग का उपचार के लिए डॉक्टर की राय जरूर ले।

  1. अगर आपका पशु खुरपका मुंहपका रोग से पीड़ित हो तो ऐसे में उनके घाव पर लाल दवा लगाई जा सकती है। 
  2. खुरपका मुंहपका रोग से राहत दिलाने के लिए पशु को मोठ की रोटी बनाकर खिलाई जा सकती है। 
  3. पशु को खुरपका मुहंपका रोग होने पर पशुपालक भाई पशु को सूखा चारा खिलाएं। 
  4. इन सबके अलावा पशुपालक भाई खुरपका मुहंपका रोग का इलाज करवाने के लिए तुरंत डॉक्टर से संपर्क कर पाएं। 

ये भी पढ़ें: पंढरपुरी भैंस की संपूर्ण जानकारी पढ़ें

हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई होगी। अगर आप इसी तरह की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो हमारी एनिमॉल ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं। ऐप के माध्यम से आप पशु चिकित्सक से संपर्क कर सकते हैं और पशु खरीदने और बेचने का काम भी कर सकते हैं। ऐप को डाउनलोड करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें।