क्या अजोला से पशुओं में दूध बढ़ा सकते है ?

अजोला में मौजूद पोषक तत्व पशुओं के स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हैं। इसमें लगभग 30 प्रतिशत तक प्रोटीन की मात्रा होती है साथ ही लाइसिन, अर्जिनीन और मेथियोनीन से भरपूर है। अजोला में लिग्निन की सूक्ष्म मात्रा से पशुओं में पाचन सरलता से होता है। ऐसा कहा जाता है कि यदि यूरिया की जगह अजोला का प्रयोग किया जाए तो फिर उत्पादन भी अच्छा होता है। क्योंकि इसमें नाइट्रोजन की मात्रा 30 फीसदी होती है, इसके अतिरिक्त खनिज भी अच्छी मात्रा में मौजूद होते हैं।

दूध उत्पादन में उपयोगी अजोला-

दूध उत्पादन में अजोला काफी उपयोगी है। इससे दूध में वसा की मात्रा बढ़ती है। अजोला के चलते दूध का उत्पादन बीस फीसदी तक बढ़ाया जा सकता है। संकर नस्लीय गायों में अजोला की सहायता से खर्च भी कम होता है साथ ही दूध का उत्पादन भी 35 प्रतिशत तक बढ़ाया जा सकता है। इसे राशन के साथ समान अनुपात में मिलाकर पशु को खिलाया जा सकता है। इस प्रकार महंगे राशन से खर्च कम किया जा सकता है।

शुद्ध प्रजाति का इस्तेमाल-

यदि अजोला की शुद्ध प्रजाति का इस्तेमाल किया जाए तो इससे अधिक उत्पादन प्राप्त किया जा सकता है। इसका अधिक उत्पादन लेने के लिए इसकी कटाई 1 सेमी. पर कर दें। भारत में अजोला की औसत लंबाई 2 से 3 सेमी. तक होती है।

महत्वपूर्ण तथ्य-

यदि अजोला की बात करें तो यह देश में चारा की उपलब्धता कम खर्च में बढ़ाई जा सकती है। इसे अधिक सरलता से बढ़ाया जा सकता है। इसे गाय, भैंस, बकरी आदि के लिए अच्छा चारा के रूप में दिया जा सकता है। इसे तालाब, नदी और गड्ढे में आसानी से उत्पादित किया जा सकता है। अजोला को रबी और खरीफ के मौसम में आसानी से उगा सकते हैं। यह रासायनिक खाद का एक विकल्प के तौर पर है। इसके उपयोग से पशुओं में बांझपन की समस्या में कमी लायी जा सकती है।

कैसे उगाएं अजोला-

नेशनल रिसोर्स डेवलेपमेंट विधि के अनुसार इसे प्लास्टिक शीट के साथ 2 मी.X 2मी. X 0.2मी का क्षेत्र तैयार कर इसमें 15 किग्रा. तक उपजाऊ मिट्टी डालते हैं। फिर इसे 2 किग्रा. गोबर और 30 ग्राम सुपर फास्फेट डालते हैं। इसके बाद में पानी डालकर इसका स्तर 10 सेमी. तक पहुंचा दिया जाता है। अब अजोला की एक किग्रा. की मात्रा को डालते हैं। देखते ही देखते 10 से 15 दिन बाद अजोला की लगभग आधा किलो मात्रा मिलनी शुरु हो जाती है। अच्छा उत्पादन प्राप्त करने के लिए 20 ग्राम सुपर फास्फेट तथा एक किग्रा. की मात्रा हर पांच साल बाद डालनी चाहिए।

34 लाइक
See English Translation

Nutrients present in Azola are beneficial for animal health. It contains up to 30 percent protein content and is rich in lysine, arginine and methionine. Digestion occurs easily in animals with a subtle amount of lignin in azola. It is said that if Azola is used in place of urea, then production is also good. Because it contains 30 percent nitrogen, in addition, minerals are also present in good quantity.

Ajola useful in milk production-

Azola is quite useful in milk production. This increases the fat content in milk. Due to azola, milk production can be increased up to twenty percent. With the help of ajola in hybrid cattle cows, the cost is also reduced and milk production can also be increased by 35 percent. It can be mixed in equal proportions with rations and fed to the animal. Thus spending can be reduced by expensive rations.

Use of pure species-

If a pure species of ajola is used, more production can be achieved. To take more production, harvest it 1 cm. Please do. Average length of ajola in India is 2 to 3 cm. Happens till then.

important facts-

If we talk about Ajola, then the availability of fodder in the country can be increased at a lower cost. It can be increased more easily. It can be given as good fodder for cow, buffalo, goat etc. It can be easily produced in ponds, rivers and pits. Ajola can be grown easily during the Rabi and Kharif seasons. It is an alternative to chemical fertilizer. With its use, the problem of infertility in animals can be reduced.

How to grow Ajola-

It is 2m X 2m with plastic sheet as per National Resource Development method. Prepare an area of ​​x 0.2 m and 15 kg in it. Till we add fertile soil. Then it is 2 kg. Add cow dung and 30 grams of super phosphate. After that, level it by adding water to 10 cm. Is delivered to. Now one kg of ajola. Let's put the amount of After seeing this, after 10 to 15 days, about half a kilo quantity of Azola starts to be found. 20 grams of super phosphate and one kg to achieve good production. The amount should be added after every five years.