गाय की वैदिक खुराक से ढुध केसें बढ़ाए ?

5kg तारा
10kg सरसो
30 kg जौ
30 kg गेहु का दलिया
30 kg कपास के बनोले
20 kg चने
15 kg सोयाबीन;या मुंगी की दाल कै छिलका
5 kg गुड़
3 kg मेथीदाना
2 kg सुखे आवले
1 kg मीठा सोडा
250 g ज़ीरा
250 g सोंफ
1 kg साबुत लहसुन
यह गाय की एक महीने की खुराक है इसके तीस भाग कर लेने चाहिए ।

गाय को दूध बढ़ाने के लिए वैदिक खुराक की विधि:- तारामीरा , सरसौ, जौ, गेहु ,कपास के बिनोले, चने छिलका ओर मीठा सोडा को बारीक पीसकर उसका दलीया बना के पका कर ठंडा करके दिया जाना चाहिए है।

मेथी और आवला कौ बारीक पीसकर गुड डाल कर तीनो को छाछ में 12घंटे भिगोकर सरबत बना कर उन्हें शाम को गाऐ को देना है टोप कैलशियम तैयार हो गया जी शाम का दलिया मे मिलाकर देना चाहिए और सुबह नमक वाला देना चाहिए

गाय तो हर रोज 25-30 kg हरी घास(हरा चारा) पेट भर देना चाहिए!
2-3 kg सुखी तुड़ी देना जी!

खल तो खाद है खुराक नही है!!!!

ये सब गाय को कभी न खिलायो जैसे फीड तो जहर है चुरी तो कबाड हाेती है और घर का आटा जहर है!

कच्चा या गीला गेहूँ का आटा जहर हैक्योकि गाय को चार पेट होते है गाय को आटे की रोटी बनाकर दे सकते है।
आटा गाय के पेट मे जाकर आतौं काे चिपका देता है जब हम पेट मे कीडे की दवा देते है तो कीडे चीपे हुऐ कचे आटे में घुसकर अपनी जान बचा लेते हैं ऐसे वे मरते ही नहीं और दूध बढ़ने की क्षमता को 50% कम करता हैं!
– डॉ. रोहित बच्छराज – 9053596020

296 लाइक