ब्याने से पहले पशु क्या संकेत देते हैं ?

डेरी किसानों के लिए यह जरुरी है की वह पशुओं के व्यवहार को समझे ताकि वह आसानी से उनकी समस्याओं को जानकर उनका निदान कर पाए | ब्याने की अवस्था को जानना पशुपालकों के लिए बहुत जरुरी है | सभी पशु यदि वह सामान्य अवस्था में नहीं है तो वह संकेतों के माध्यम से बताता है | विभिन्न अवस्थाओं में से ब्याने से पूर्व भी पशु कुछ संकेत देते हैं |मादा पशुओं ब्याने के संकेतों को समझने से पशुपालक को या जानने में मदद मिलती है कि पशु चिकित्सा सहायता की कब आवश्यकता होगी। ब्याने के संकेतों को मूल रूप से 3 अवस्थाओं से गुजरती है

1. ब्याने से पहले के संकेत (ब्याने से 24 घंटे पहले)

2. ब्याना

3.गर्भनाल/जेर का निष्कासन करना

ब्याने से पहले के संकेत (ब्याने से 24 घंटे पहले)

  • ब्याने से पहले पशु क्या संकेत देते हैं मादा पशुओं में ब्याने से पूर्व निम्न लक्षण दिखने लगते हैं | इन संकेतों को जान आप समझ सकते ही आप समझ सकते हैं की पशु जल्द ही ब्याने वाला है |
  • यदि पशु के योनि द्वारा से स्वच्छ श्लेष्मा का रिसाव हो रहा हो और थनों का दूध से भर जाना प्रारंभ हो जाता है इसे ही पशु के ब्याने की शूरूआत के आसन्न लक्षण हैं।
  • समूह से अलग रहने की कोशिश करता है।
  • ऐसे समय में पशु की भूख खत्म हो जाती है और वह खाने में दिलचस्पी नहीं लेता |
  • पशु बेचैन होता है और पेट पर लातें मारता है या अपने पार्श्व/बगलों को किसी चीज से रगड़ने लगता है।
  • श्रोणि स्नायु/पीठ की मांशपेशियां ढीली पड़ जाती है जिस से पूँछ ऊपर उठ जाती है।
  • योनि का आकार बड़ा एवं मांसल हो जाता है।
  • थनों में दूध का भराव ब्याने के 3 सप्ताह पहले से लेकर ब्याने के कुछ दिन बाद तक हो सकता है।
  • बच्चा जैसे-जैसे प्रसव की स्थिति में आता है, वैसे-वैसे पशु के पेट का आकार बदलता है।

ब्याने के दिन का पता लगाना

  • यदि आपको यह पता करना है की पशु (गाय या भैंस ) का ब्याना का सही समय क्या है तो आप इस तरह से निकाल सकते हैं |
  • जब भी पशु का गर्भधान करवाएं हमेशा गर्भाधान की तारीख लिखकर रखें।
  • अगर पशु पुन: मद में नहीं आता है तो गर्भाधान के 3 माह पश्चात् गर्भ की जाँच अवश्य करवाएं।
  • यदि गर्भाधान सही हुआ है तो आप उसके ब्याने का समय निकाल सटे हैं क्योकि गाय का औसत गर्भकाल 280-290 दिन एवं भैंस 305 – 318 दिन।

ब्याने के संकेत (ब्याने के 30 मिनट पहले से लेकर 4 घंटे तक)

  • सामान्य रूप से ब्याते समय बछड़े के आगे के पैर और सिर सबसे पहले दिखाई देते हैं।
  • ब्याने की शुरूआत पानी का थैला दिखाई देने से होती है।
  • यदि बछड़े की स्थिति सामान्य है तो पानी का थैला फटने के 30 मिनट के अंदर पशु बछड़े को जन्म दे देता है।
  • प्रथम बार ब्याने वाली बछड़ियों में यह समय 4 घंटे तक हो सकता है।
  • पशु खड़े खड़े या बैठकर ब्या सकता है।
  • यदि पशु को प्रसव पीड़ा शुरु हुए एक से ज्यादा समय हो जाएँ और पानी का थैला दिखाई न दे तो तुरंत पशु चिकित्सा सहायता बुलानी चाहिए

गर्भनाल/जेर का निष्कासन (ब्याने के 3-8 घंटे बाद)

  • सामान्यतया गर्भनाल/जेर पशु के ब्याने के 3-8 घंटे बाद निष्कासित हो जाती है।
  • अगर ब्याने के 12 घंटे बाद तक भी गर्भनाल न गिरे तो इसे गर्भनाल का रुकाव कहते हैं।
  • कभी भी रुकी हुई गर्भनाल को ताकत लगाकर नहीं खींचे, इससे तीव्र रक्तस्राव हो सकता है और कभी-कभी पशु की मौत भी हो सकती है।

 

24 लाइक
See English Translation

It is important for dairy farmers to understand the behavior of animals so that they can easily know their problems and diagnose them. It is very important for cattle owners to know the state of calving. If all the animals are not in normal state, then they tell it through signs. Animals give some clues even before they are under different stages. Understanding the signs of female animal calves helps the herders know when or when veterinary assistance will be needed. Earnest signals basically go through 3 stages

1. Pre-emption signs (24 hours before calving)

2. Earnest

3. Expulsion of gabernal / jer

Pre-emption signs (24 hours before calving)

What animals indicate before calving: Female animals show the following symptoms before calving. Knowing these signs, you can understand that the animal is going to tell soon.
If there is a leakage of clean mucus from the animal's vagina and the udder starts filling with milk, this is the immediate symptom of the animal's calving.
Tries to stay apart from the group.
At such a time, the hunger of the animal ends and he is not interested in eating.
The animal is restless and kicks on the stomach or rubs its sides / sides with something.
The muscles of the pelvic muscles / back become loose due to which the tail arises.
The size of the vagina becomes large and muscular.
Milk filling in the udder can be from 3 weeks before calving to a few days after calving.
The size of the stomach of the animal changes as the baby comes into the state of childbirth.

Find out the day of calf

If you want to find out what is the right time to proclaim an animal (cow or buffalo), you can remove it this way.
Whenever the animal is pregnant, always keep the date of conception.
If the animal does not come again, then after 3 months of conception, get the pregnancy checked.
If the conception is correct, then you take out the time of her calves because the average gestation period of the cow is 280-290 days and buffalo 305 - 318 days.

Signs of calving (30 minutes before calving to 4 hours)

Normally the calf's front legs and head are the first to appear.
Earnings begin with a water bag visible.
If the condition of the calf is normal, then the animal gives birth to the calf within 30 minutes of the water bag bursting.
This time can be up to 4 hours in first calf calves.
The animal can stand and sit or stand.
If the animal starts suffering more than one time and does not see a water bag, then veterinary help should be called immediately.

Expulsion of cord / jer (3-8 hours after calving)

The umbilical cord / jer usually expels 3–8 hours after the animal's calving.
If the umbilical cord does not fall even after 12 hours of calving, it is called obstruction of the umbilical cord.
Never pull the stalled cord with force, it can cause acute bleeding and sometimes even death of the animal.