अफारा होने पर पशु का किस तरह बचाव किया जा सकता है?

यदि समय पर अफारे का ईलाज नहीं किया गया तो पशु मर जाता है| निम्नलिखित उपाय सहायक है:-
(क) पशु को खिलाना बंद कर देना चाहिए व पशुचिकित्सक को सम्पर्क करना चाहिए|
(ख) नाल देते समय पशु की जीभ नहीं पकड़नी चाहिए|
(ग) पशु को बैठने नहीं देना चाहिए उसे थोड़ा-थोड़ा चलाना चाहिए|
(घ) जब पशु में अफारे के लक्षण समाप्त हो जाए उसके बाद 2-3 दिनों में धीरे-धीरे पशु को चारा देना चाहिए|

6 लाइक