क्या आपको गाय-भैंस से कोरोना-वायरस (Covid 19) हो सकता है?

आज तक की रिसर्च के मुताबिक, आपको गाय-भैंस से कोरोना-वायरस (Covid 19) से होने का चांस नहीं है। पर अगर आप सावधानी रखना चाहते हैं तो –

1 – यदि आपको अपने पालतू पशुओं की देखभाल करनी है, तो एक फेसमास्क पहनें।
2 – भोजन साझा न करें या उन्हें गले न लगाएं।
3 – उनसे संपर्क करने से पहले और बाद में अपने हाथ धो लें।

कोरोना-वायरस को लेकर बहुत गलत और अधूरी जानकारी फ़ैल रही है । अभी भी रिसर्च चल रही है, तो आगे जानकारी बदल सकती है।
खुद को और अपने पशुओं को और लोगों से अलग रखें। ज़्यादा से ज़्यादा घर पर रहें। हम आपके और आपके पशु के स्वस्थ्य की कामना करते हैं ।

48 लाइक
… और पढ़ें arrow

अच्छी नस्ल के लिए कृत्रिम गर्भाधान क्यों जरूरी है ?

पशु की गुणवत्ता उसकी नस्ल पर निर्भर करती है। पशु का उत्पादन बढ़ाने के लिए अच्छी नस्ल बहुत जरुरी है। अच्छे साड़ों की कमी को देखते हुए और कृत्रिम गर्भाधान के लाभ को समझने के लिए कृत्रिम गर्भाधान का अपनाना बहुत जरुरी होता है। कृत्रिम गर्भाधान की विधि से अधिक साड़ों की कमी पूरी हो जाती है। एक बार इकट्ठा किया गया वीर्य लगभग 50 गायों को गाभिन करने के काम आता है।

लिक्विड नाइट्रोजन

कम तापमान पर शरीर की कोशिकाएं लंबे समय तक जीवित रह सकती हैं। इसी तरह शुक्राणओं को लंबे समय तक जीवित और सुरक्षित रखने के लिए लिक्विड नाइट्रोजन का प्रयोग किया जाता है। लिक्विड नाइट्रोजन का ताप -196 डिग्री से. होता है। लिक्विड नाइट्रोजन को क्रायोजनिक जार में भरा जाता है, जिसमें सीमेन स्टोरेज किया जाता है।

क्रायो यानी बहुत ठंडा, जब भी कोई गैस, गैस से लिक्विड में बदलती है तो उसे क्रायोजनिक लिक्विड कहते हैं। इसके संपर्क में आते समय सावधानी रखना जरुरी है। जब बहुत ही कम ताप वाले पदार्थ हमारी त्वचा के संपर्क में आते हैं, तो त्वचा जल जाती है। इसी कारण शरीर में मस्से या छोटे ट्यूमर हटाने के लिए लिक्विड नाइट्रोजन की मदद से क्रायो सर्जरी की जाती है। इसके संपर्क में काम करते समय त्वचा आंखों को सुरक्षित रखना चाहिए।

क्रायो जार

लिक्विड नाइट्रोजन एक ऐसी अवस्था होती है, जिसे लंबे समय तक सुरक्षित रखना आसान नहीं होता है। क्योंकि इसका नॉर्मल रूप में लगातार वाष्पीकरण होता रहता है। इसे रोकने के लिए विशेष टेक्निकल व मेटेरियल से बनाए गए कंटेनर में भरा जाता हैं, जिन्हें क्रायो जार या क्रायो कंटेनर कहते हैं।

क्रायो जार के प्रकार

आजकल बाज़ार में कुछ कंपनियां क्रायो जार उपलब्ध कराती है। मुख्य रूप से आईबीपी और इनबॉक्स कंपनियां क्रायो जार निर्माण करती है। बनावट व उपयोग के आधार पर क्रायो जार दो तरह के होते हैं। 1-बायोलॉजिकल उपयोग और 2- ट्रांसपोर्ट के लिए।

सीमन स्ट्रा

आजकल सीमन को फ्रिज करने और भरने के लिए पॉली विनाइल स्ट्रा का प्रयोग किया जाता है। इनमें फ्रेंच सिस्टम से तैयार की गई स्ट्रोक का प्रयोग अधिक होता है। इससे ऑटोमेटिक रूप से मशीनों में सीमेन से भर जाती है तथा लेवलिंग भी हो जाती है। इसमें भी फ्रेंच मिनी स्ट्रा का उपयोग ज्यादा प्रचलित है।

एआई गन

एआई गन के लिए गन एक महत्वपूर्ण उपकरण होता है, जो सीमन को स्ट्रा से यूटेरस तक पहुंचाता है। सीमेन स्ट्रा की साइज के अनुसार ही इसकी बनावट होती है। ताकि अंदर स्ट्रा के ऊपर शीथ अच्छी तरह फीट हो सकें।

एआई शीथ

एआई शीथ एक लंबी सीधी कवर नली होती है,जो पीवीसी की बनी होती है। इसके एक खुले सिरे पर चीरा लगा होता है तथा दूसरे सिरे पर छेद होता है। चीरे लगे हुए भाग के ऊपर डाला जाता है और दूसरा टेपर सिरा स्ट्रा के कटे हुए भाग पर फिट हो जाता है इसे इंसेमिनेशन सिरा भी कहते हैं। स्ट्रा में सीमेन ठंडा फ्रोजन होता है उसमें स्पर्म भी शांत अवस्था में रहते हैं। एआई में उपयोग में लेने के लिए सीमन का द्रवीकरण या पिघलना जरुरी है ताकि स्पर्म गतिशील हो सकें। एआई के दौरान फ्रोजन सीमन को तरल बनाने तथा स्पर्म को पुनः एक्टिव करने के लिए तापमान -196 डिग्री सेल्सियस से +37 डिग्री सेल्सियस करना पड़ता है।

यह काम फुर्ती से होना बहुत जरुरी है। इसके लिए ताप में समानता होनी चाहिए ताकि पूरी लंबाई में भरे हुए सीमन की थॅाइंग एकसार हो सके तथा पूरा सीमन तरल हो जाए। ऐसा नहीं होने पर स्पर्म गर्मी के उतार-चढ़ाव के प्रभाव को सहन नहीं कर पाते हैं और मर जाते हैं। डेयरी पशुओं में गाय भैंस के स्पर्म की सहनशक्ति में थोड़ा फर्क होता है। भैंस के स्पर्म अपेक्षाकृत अधिक नाजुक होते हैं यानी तापमान में उतार-चढ़ाव के झेल नहीं पाते और मर जाते हैं। इसलिए भैंस में कृत्रिम गर्भाधान करते समय इस बात का पूरा ध्यान रखना चाहिए।

25 लाइक
… और पढ़ें arrow

पशु का दस्त, मोक का इलाज कैसे करें ?

आपकी गाय और भैंस को दस्त लग जाने पर उनका गोबर बहुत यादा पतला हो जाता है और उससे ज्यादा बदबू आने लगता है।

निम्न कारण से दस्त लग सकता हैं –

1. दूषित पानी या दूषित हरा चारा से हो सकता है

2. गाय भैंस को जो ज्यादा फीड खिलाने से या ज्यादा गिला करके खिलाने से पशु के पेट में इंफेक्शन हो सकता है और उससे पशु का हाजमा खराब हो जाता है

102 लाइक
… और पढ़ें arrow

भारत में कौन-कौन सी गाय की नस्लें हैं?

भारत में लगभग 27 मान्यता प्राप्त गाय की नस्लें हैं:-
(क) दुधारू नस्लें :- रेड सिन्धी, साहीवाल, थरपारकर
(ख) हल चलाने योग्य :- अमृत महल, हैलिकर,कांगयाम
(ग) दुधारू-व-हल योग्य:- हरयाणा कंकरेज, अंगोल

34 लाइक
… और पढ़ें arrow

दूध उत्पादन के लिए केंद्र सरकार की क्या क्या योजनाएं है ?

दूध उत्पादन के लिए केंद्र सरकार की ओर से भी कई योजनाओं को संचालित किया जा रहा है। इसके लिए दुग्ध उत्पादकों को कई तरह के अनुदान दिए जाते हैं। डेयरी एंटरप्रेन्योरशिप डेवलपमेंट स्कीम के तहत दुग्ध उत्पादन करने वालों को वित्तीय सहयोग किया जाता है। यह वित्तीय सहयोग छोटे किसानों तथा भूमिहीन मजदूरों को प्रमुख रूप से दिया जाता है। डेयरी इंटरप्रेन्योर शिप डवलपमेन्ट स्क्रीम भारत सरकार की योजना है, इसके तहत डेयरी और इससे जुड़े दूसरे व्यवसाय को प्रोत्साहित करने के लिए वित्तीय सहायता दी जाती है।

इसके तहत छोटे डेयरी फार्म खोलने, उन्नत नस्ल गाय अथवा भैस की खरीद के लिए 5 लाख रूपये की सहायता की जाती है। यह राशि दूध खरीद दुधारू मवेशी के लिए दी जाती है। दूध उत्पादन में रोजगार इसके अलावा जानवरों के मल में जैविक खाद बनाने के लिए एक यूनिट की व्यवस्था करने के लिए 20,000 की मदद मिलती है।

96 लाइक
… और पढ़ें arrow