दूध में फैट और SNF कैसे बढाएं ?

दूध में फैट और SNF मात्रा होती है वो आहार के साथ साथ पशु के जीन और नस्ल पर निर्भर करता है। अगर आप वही आहार दो अलग नस्ल के पशु को देंगे फिर भी उनकी जो फैट की मात्रा है उसमे बहुत ही ज्यादा फरक रहता है। अगर आपको दूध फैट के आधार में बेचना है तोह पशु खरीदते समय उसका फैट की मात्रा जाँच करवा लें।

ऐसे में पशुपालक अपने दुधारू पशु को हरे चारे और सूखे चारे का संतुलित आहार देकर दूध में वसा की मात्रा को बढ़ा सकते हैं।

किसान भाई नीचे दिए फार्मूले से फ़ायदा उठा सकते हैं। यह रोशन पशुओं को देना होता है जो दूध देते हैं।
A) एक सो ग्राम टाटा का नमक
B) दो सो ग्राम सरसों का तेल
C) एक सो ग्राम गुड
D) सो ग्राम कैल्शियम
इन चारों चीजों को मिलाकर दुधारू पशुओं को दें इस से अंदर की कमज़ोरी कम होगी और पशु जितना जियादा हो सके दूध देगा

 

 

315 लाइक
… और पढ़ें arrow

पशुओं में अफारा होने के क्या लक्षण है?

आम लक्षण निम्नलिखित है:-
(क) ज्यादा मात्रा में गीला हरा चारा, मूली, गाजर आदि यदि सड़ी हुई है|
(ख) आधा पका ल्पूसरन बरसीम व जौ का चारा|
(ग) दाने में अचानक बदलाव|
(घ) पेट के कीड़ों में संक्रमण|
(ङ) जब पशु अधिक चारा खाने के बाद पानी पीए|

23 लाइक
… और पढ़ें arrow

नाबार्ड डेयरी सब्सिडी लोन क्या है ? कैसे मिलेगा?

योजना के उद्देश्य

  • स्व-रोजगार पैदा करना और डेयरी क्षेत्र के लिए सुविधाएं उपलब्ध करना
  • मिट्टी की उर्वरता और फसल की पैदावार में सुधार के लिए अच्छा स्रोत।
  • गोबर से गोबर गैस, घरेलू प्रयोजनों के लिए ईंधन के रूप में इस्तेमाल, इंजन चलने के लिए, अच्छी तरह से पानी के लिए।
  • दूध के उत्पादन के लिए डेयरी फार्म की स्थापना को बढ़ावा देना।

डेयरी फार्मिंग नाबार्ड सब्सिडी योग्यता

  • किसान व्यक्तिगत उद्यमी और असंगठित और संगठित क्षेत्र का समूह हो।
  • एक आवेदक इस योजना के तहत  केवल एक बार सहायता का लाभ उठाने के पात्र होंगे।
  • इस तरह के दो फार्मों की सीमाओं के बीच की दूरी कम से कम 5oo मीटर होनी चाहिए।

दुग्ध उत्पाद बनाने के लिए उपकरण पर सब्सिडी

  • डेयरी उद्यमिता विकास योजना के तहत दुग्ध उत्पाद (मिल्‍क प्रोडक्‍ट) बनाने की यूनिट शुरू करने के लिए भी सब्सिडी दी जाती है|
  • योजना के तहत आप दुग्ध उत्पाद की प्रोसेसिंग के लिए उपकरण खरीद सकते हैं|अगर आप इस तरह की मशीन खरीदते हैं और उसकी कीमत 13.20 लाख रुपये आती है तो आपको इस पर 25 फीसदी (3.30 लाख रुपये) की कैपिटल सब्सिडी मिल सकती है|अगर आप एससी/एसटी कैटेगरी से आते हैं तो आपको इसके लिए 4.40 लाख रुपये की सब्सिडी मिल सकती है|

मिल्‍क कोल्‍ड स्‍टोरेज भी बना सकते हैं

  •  आप डेयरी उद्यमिता विकास योजना के तहत दूध और दूधे से बने उत्पाद के संरक्षण के लिए कोल्‍ड स्‍टोरेज यूनिट शुरू कर सकते हैं|
  • इस तरह का कोल्ड स्टोरेज बनाने में अगर आपकी लागत 33 लाख रुपये आती है तो इसके लिए सरकार सामान्‍य वर्ग के आवेदक को 8.25 लाख रुपये और एससी/एसटी वर्ग के लोगों को 11 लाख रुपये तक की सब्सिडी मिल सकती है|

 डेरी फार्मिंग योजनाएं

1.संकर गायों / साहीवाल, लाल सिंधी, गिर, राठी आदि जैसे स्वदेशी विवरण दुधारू गायों / श्रेणीबद्ध भैंस 10 पशुओं के लिए छोटे डेयरी इकाइयों को बढ़ने के साथ स्थापना।

निवेश: 10 जानवरों की यूनिट के लिए 5.00 लाख रुपये – न्यूनतम इकाई का आकार 2 और अधिकतम 10 जानवरों की सीमा के साथ है।

सब्सिडी: परिव्यय (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 33 .33%,) के 25% से 10 जानवरों की एक यूनिट के लिए 1.25 लाख रुपये की सीमा के रूप में वापस समाप्त पूंजी सब्सिडी विषय (अनुसूचित जाति के लिए 1.67 लाख रुपये / अनुसूचित जनजाति के किसानों,) । अधिकतम अनुमेय पूंजी सब्सिडी 25000 रुपये 2 पशु इकाई के लिए (अनुसूचित जाति के लिए 33,300 रुपये / अनुसूचित जनजाति के किसानों) है। सब्सिडी इकाई आकार के आधार पर एक यथानुपात आधार पर प्रतिबंधित किया जाएगा।

2.बछिया बछड़ों के पालन – 20 बछड़ों के लिए ऊपर – पार नस्ल, स्वदेशी मवेशियों और वर्गीकृत भैंसों दुधारू नस्लों का विवरण।

निवेश: 20 बछड़ा इकाई के लिए 4.80 लाख रुपये –  5 बछड़ों की न्यूनतम इकाई आकार और 20 बछड़ों की अधिकतम सीमा के साथ।

सब्सिडी: परिव्यय (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 33.33%) की 25% 20 बछड़ों (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 1.60 लाख रुपये) की एक इकाई के लिए 1.20 लाख रुपये की सीमा के रूप में वापस समाप्त पूंजी सब्सिडी अधीन। अधिकतम अनुमेय पूंजी सब्सिडी 30,000 रुपये 5 बछड़ा इकाई के लिए (अनुसूचित जाति के लिए 40,000 रुपये / अनुसूचित जनजाति के किसानों) है। सब्सिडी इकाई आकार के आधार पर एक यथानुपात आधार पर प्रतिबंधित किया जाएगा।

3.वर्मीकम्पोस्ट (दुधारू पशु यूनिट के साथ अलग से नहीं दुधारू पशुओं के साथ विचार किया जा छेनी और)।

निवेश:  20,000 / -रु।

सब्सिडी: परिव्यय (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 33.33%)                     के 25% या 5,000 रुपये की सीमा के रूप में वापस समाप्त पूंजी सब्सिडी विषय – (रुपये      6700 / – अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए)।

4.दुहना मशीनों की खरीद / दूध परीक्षकों / थोक दूध ठंडा इकाइयों (2000 जलाया क्षमता)।

निवेश: 18 लाख रु।

सब्सिडी: परिव्यय (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 33.33%) के 25% 4.50 लाख रुपये (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 6.00 लाख रुपये) की सीमा के रूप में वापस समाप्त पूंजी सब्सिडी अधीन।

5.स्वदेशी दूध उत्पादों का निर्माण करने के लिए डेयरी प्रसंस्करण के उपकरण की खरीद।

निवेश: 12 लाख रुपये

सब्सिडी: परिव्यय (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 33.33%) के 25% 3.00 लाख रुपये (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 4.00 लाख रुपये) की सीमा के रूप में वापस समाप्त पूंजी सब्सिडी अधीन।

6.डेयरी उत्पाद परिवहन सुविधाओं और कोल्ड चेन की स्थापना।

निवेश: 24 लाख रु।

सब्सिडी: परिव्यय (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 33.33%) के 25% से 6.00 लाख रुपये (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 8.00 लाख रुपये) की सीमा के रूप में वापस समाप्त पूंजी सब्सिडी अधीन।

7.दूध और दूध उत्पादों के लिए कोल्ड स्टोरेज की सुविधा।

निवेश: 30 लाख रुपये।

सब्सिडी: परिव्यय (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 33.33%) के 25% 7.50 लाख रुपये (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 10.00 लाख रुपये) की सीमा के रूप में वापस समाप्त पूंजी सब्सिडी अधीन।

8.प्राइवेट पशु चिकित्सा क्लीनिक की स्थापना।

निवेश: मोबाइल क्लिनिक के लिए 2.40 लाख रुपये और स्थिर क्लिनिक के लिए 1.80 लाख रुपये।

सब्सिडी: – परिव्यय के 25% (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 33.33%) वापस समाप्त पूंजी सब्सिडी 45,000 / – रुपये और 60,000 / रुपये की सीमा  (रुपये 80,000 / – और 60,000 रुपये / – अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए)क्रमश: मोबाइल और स्थिर क्लीनिक के लिए।

9.डेयरी विपणन आउटलेट / डेयरी पार्लर।

निवेश: 56,000 रुपये / –

सब्सिडी: परिव्यय (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 33.33%) के 25% या14,000 रुपये की सीमा के रूप में वापस समाप्त पूंजी सब्सिडी विषय – (रुपये 18600 / – अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए)।

नाबार्ड डेयरी फार्मिंग सब्सिडी |ऑनलाइन आवेदन फॉर्म, रजिस्ट्रेशन 2020  

  • सबसे पहले नाबार्ड की आधिकारिक वेबसाइट(https://www.nabard.org/) पर जाएँ
  • मेनू में जाकर ” Govt. Sponsored Schemes” लिंक पर क्लिक करें
  • इसके बाद “Dairy Entrepreneurship Development Scheme” लिंक पर क्लिक करें
  • अब दी गई सारी जानकारी ध्यानपूर्वक पढ़ें
  • उसी पेज में नीचे जाकर आवेदन पात्र का प्रारूप डाउनलोड करें और आवेदन कर दें
127 लाइक
… और पढ़ें arrow

गलघोंटू रोग होने के मुख्य लक्षण क्या है?

तेज़ बुखार, आँखों में लाल, गले में सूजन तेज़ दर्द होने का ईशारा, नाक से लाल रंग का सख्त आदि मुख्य लक्षण है|

3 लाइक
… और पढ़ें arrow

परजीवी रोगों से पशुओं को कैसे बचाया जाये?

अधिकतर परजीवी रोगों से पशुओं को निम्न उपायों द्वारा बचाया जा सकता है:
1. पशुओं के रहने के स्थान साफ़-सुथरा व सूखा होना चाहिये।
2. पशुओं का गोबर बाहर कहीं गड्डे में एकत्र करें।
3. पशुओं का खाना व पानी रोगी पशुओं के मल मूत्र से संक्रमित न होने दें।
4. पशुओं को फिलों (Snails) वाले स्थानों पर न चरायें।
5. पशुओं के चरागाहों में परिवर्तन करते रहें।
6. कम जगह पर अधिक पशुओं को न चराये।
7. पशुओं के गोबर कि जांच समय-समय पर करवायें।
8. पशुचिकित्सक की सलाह से कीड़े मारने की दवाई दें।
9. समय-समय पर पशुचिकित्सक की सलाह लें।

2 लाइक
… और पढ़ें arrow