सोनपुर पशु मेला: भारत के सबसे बड़ा मेला के बारे में जाने

बिहार के सोनपुर जिले में हर साल कार्तिक पूर्णिमा के वक्त यानी की नवंबर- दिसंबर महीनों में भारत का सबसे बड़ा पशुमेला लगता है। भारत का ही नहीं बल्कि सोनपुर पशु मेला पूरे एशिया का सबसे बड़ा पशुमेला कहलाता है। इसे मेले को हरिहर क्षेत्र मेला के नाम से भी जाना जाता है। वहीं लोकल लोग इसे छत्तर मेला भी कहते हैं। सोनपुर बिहार की राजधानी पटना से 25 किलोमीटर दूर है। इस पशु मेले ने पूरे देश में पशु मेलों को एक अलग ही पहान दी है।

 

सोनपुर मेले से जुड़ा इतिहास

पुरानी मान्यताएं हैं कि ये मेला एक वक्त पर जंगी हाथियों का केंद्र होता था। यहां से चंद्रगुप्त मौर्य, अकबर, वीर कुंवर सिंह ने हाथी यहीं से खरीदें थे। इतना ही नहीं कहा जाता है कि भगवान के दो भक्त हाथी (गज) और मगरमच्छ (ग्राह) के रूप में धरती पर पैदा हुए। बिहार के कोणहारा घाट पर जब गज पानी पीने आया तो ग्राह ने उसे मुंह में पकड़ लिया। गज ग्राह से छुटकारा पाने के लिए लगातार लड़ता रहा। पानी में रहने के बाद भी ग्राह उसे पानी के अंदर नहीं खींच पाया। गज और ग्राह का ये युद्ध इतना रोमांचकारी हो गया था कि समस्त देवता इस युद्ध को देखने के लिए वहां आ गए।

इस युद्ध में गज कमजोर पड़ रहा था। उसने भगवान विष्णु से अपनी जान बचाने की प्रार्थना की। बाद में कार्तिक पूर्णिमा के दिन विष्णु भगवान ने सुदर्शन चक्र चलाकर दोनों के युद्ध को रोका। गज और ग्राह में कौन विजयी हुआ और कौन हारा ये आज तक किसी को पता नहीं चला। कौन हारा के चलते ही उस स्थान का नाम कोणहारा घाट रखा गया है। उसी स्थान पर हरि (विष्णु) और हर (शिव) का मंदिर है। इसलिए उस स्थान को हरिहर क्षेत्र भी कहते हैं।

वहां के स्थानीय लोगों का कहना है कि हरिहरनाथ मंदिर का निर्माण भगवान राम ने सीता स्वयंवर के लिए जाते वक्त अपने हाथों से किया था। इसकी मरम्मत राजा मानसिंह ने कराई थी। मुगलकाल में राजा रामनारायण ने इस मंदिर को एक व्यापक रूप दिया।

 

सोनपुर मेले के आकर्षण

सोनपुर मेले में आपको लाखों की संख्या में पशु देखने को मिलते हैं, जो वहां पर बिकने के लिए आए होते हैं। देश भर से पशु बेचने वाले अपने-अपने पशुओं को लेकर इस मेले में पहुंचते हैं। हर साल इस मेले में हजारों पशु खरीदें और बेचे जाते हैं।

इसके अलावा मिट्टी के बर्तन और खिलौने, हस्तकला की वस्तुएं, हस्त निर्मित कपड़ें और आभूषण भी इस मेले के प्रमुख आकर्षण हैं।

ये जगह दुधारू पशुओं के लिए बेहतरीन है। सोनपुर मेला भारत का एकमात्र मेला है, जहां पर इन पशुओं की बिक्री इतनी भारी मात्रा में होती है। बिक्री के लिए इन पशुओं को बहुत ही बारीकी से सजाकर खड़ा किया जाता है। पशुओं के करतब भी आपको यहां पर देखने को मिल जाएंगे, जो पर्यटकों को काफी लुभाते हैं।

 

सरकार भी लेती है पूरा हिस्सा

इसके अलावा इस मेले में बिहार सरकार के द्वारा कई प्रदर्शनियां भी लगाई जाती हैं। जिसके जरिये लोगों को उनके स्वास्थ्य, शिक्षा जैसी जरूरी चीजों की जानकारी दी जाती है। इन प्रदर्शनियों में किसानों के हित में किए जा रहे काम, किसानों के लिए अलग अलग संगठनों द्वारा बनाए गए नए कृषि उपकरणों की भी प्रदर्शनी लगाई जाती है।

यहां पर आने वाले पर्यटकों के लिए मनोरंजन की भी पूरी व्यवस्था की जाती है। इसमें नौटंकी, पारंपरिक संगीत नाटक, मैजिक शो, सर्कस जैसे मनोरंजक कार्य शामिल है। इन्हें देख कर पर्यटक काफी अच्छा महसूस करते हैं।

सोनपुर पशुमेले में झूले, खेल, मौत का कुआं, सहित और भी कई मनोरंजन के इंतजाम किए जाते हैं। ये पशुमेला लगभग 5 से 6 किलोमीटर के क्षेत्रफल में फैला होता है। यहां पर कई तरह की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है। जिनमें दंगल तक होते हैं। इस पशुमेले के जरिये सरकार भी ये कोशिश करती है कि यहां आने वाले लोगों को बिहार की संस्कृति के बारे में बताया जा सके। 

 

सोनपुर में क्या करें

  • सोनपुर में जब आप पशु मेला देखने के लिए जाए, तो आप हरिहरनाथ मंदिर के दर्शन भी जरूर करें। इस मंदिर में भगवान शिव और विष्णु दोनों की प्रतिमाएं है। कार्तिक पुर्णिमा के दिन देश के अलग अलग हिस्सों से लोग यहां पर दर्शन करने के लिए आते हैं। साथ ही लोग गंगा और गंडक में डुबकी भी लगाते हैं।
  • सोनपुर में जब आप जा रहे हैं तो पशु मेला देखना तो भूलकर भी नहीं छोड़ सकते हैं। यहां पर बहुत से पशु अलग अलग नस्लों के आपको खरीदने और बेचने के लिए मिल जाते हैं।
  • सोनपुर सिर्फ पशु मेले के लिए ही नहीं बल्कि वहां पर होने वाले खेलकूद के लिए भी काफी मशहूर है। यहां पर कुश्ती, दंगल, क्रिकेट, फुटबॉल, हैंडबॉल, रस्सा-कश्शी, रग्बी, कबड्डी जैसे खेलों का आयोजन किया जाता है। ये खेल पुरुष और महिलाओं दोनों के लिए होते हैं।
  • आप सोनपुर में गंगा आरती का भी आनंद ले सकते हैं। ये आरती गंगा और गंडक नदी संगम पर होती है। शाम के वक्त जब घाट दीयों से जगमग होता है तो वो बेहद ही सुंदर नजर आता है।

 

कैसे पहुंचें सोनपुर

फ्लाइट के माध्यम से कैसे जाएं सोनपुर

सोनपुर बिहार की राजधानी पटना से लगभग 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। वहां पर पहुंचने के लिए आपको सबसे पहले पटना जाना पड़ेगा। भारत के लगभग सभी बड़ शहरों जैसे कि कोलकाता, मुंबई और दिल्ली से पटना के लिए सीधी फ्लाइट जाती है। और आप इन शहरों तक बहुत ही आसानी से पहुंच सकते हैं।

ट्रेन के माध्यम से कैसे पहुंचे सोनपुर

पटना उत्तर भारत का एक बहुत ही बड़ा रेलवे जंक्शन है, इसलिए आप ट्रेन के जरिए सोनपुर बहुत ही आसानी से पहुंच सकते हैं। यहां पर भारत के लगभग हर बड़े शहर से ट्रेन आती है।

सड़क के जरिये कैसे पहुंचे सोनपुर

अगर आप सड़क मार्ग से सोनपुर जाना चाहते हैं, तो उसमें आपको किसी भी तरह की कोई परेशानी नहीं होगी। अच्छे खासे हाईवे से जुड़े सोनपुर तक आप आसानी से पहुंच सकते हैं। आप दिल्ली, लखनऊ, देहरादून से बेहद ही आसानी से सड़क यात्रा कर सकते हैं।

सोनपुर में ठहरने के लिए भी टूरिस्ट विलेज बने हुए हैं जो आपको बेहद ही अच्छे दामों पर मिल जाएंगे और आपको किसी तरह की ठहरने में भी परेशानी नहीं होगी।

… और पढ़ें arrow

Gir Cow: Identification, Milk And Purchase Information

“Gir Cow” is one of the most popular varieties among the humped category of cattle breeds in India. The breed is native to India and belongs to the Kathiawar region of Gujarat. Apart from Gujrat, the Gir breed of cow is also reared in different states of India and is known by different names such as Surti, Sorthi, Desan, Bhodali, Kathiawari, etc depending upon the location. Known for its milk production and adaptability, this cow breed is reared by the tribes found in the state of Gujarat. This breed is considered pure and is probably one of the oldest breeds found in India. The cow’s milk, urine, ghee, and dung are sold at a good rate.

 

Because of their special qualities, many countries like the United States of America, Venezuela, Brazil, and Mexico import these breeds. Brazil offers this breed an international presence. Brazil supplies upgraded cattle semen and embryos of Indian-origin cattle to various countries across the world. All over the world, the breed is best known for its dairy production capacity. The natural mating technique is mostly preferred for rearing this breed rather than artificial insemination.

How to identify Gir Cow?

Gir Cow Breed is highly adaptable and can adjust to any habitat conditions. Gir cows are classified into two breeds – Devmani and Swarna Kapila are both advanced breeds. They are mainly red in colour and have long ears and a large forehead. Their horns are big and curved with a huge hump.

Milk Production and Lactation

Gir cow can produce up to 50 litres of milk every day. That is why the popularity of this cattle is booming in the animal husbandry sector. Many schemes are also implemented to protect and increase their numbers. Once they were solely found in Gujarat, but at present, they are common in states like Uttar Pradesh, Rajasthan, Madhya Pradesh, and Haryana.

Gir cow milk yield per lactation is on an average around 1590 kilos. During the first calving process by these cows, an average of 1600 kilos of milk per lactation is produced. For mature cows, it can increase to around 1800 kilos for each lactation. The milk is healthier and enjoys a huge market demand due to the presence of whey protein and casein in it. The fat quantity is somewhere between 4.7 to 5 per cent.

How to maintain Gir Cow?

Generally, concrete walls or tin shade shelter is used to save the cow from strong snowfall, heavy rainfall, sunlight, parasites, and frost. The house should be properly oxygenated and a clean air facility must be there. Cleaning should be done regularly to avoid the spreading of parasites and incubation of mosquitoes and as well as viruses.  Give them proper nutrient supplements like – Protein, Calcium, Vitamin A, and Phosphorus with their food. Manage them properly and provide proper care whenever the cow gets pregnant. Good management practices will result in a healthy calf and also gives a high milk yield.

 

Diseases that commonly affect Gir Cows and their treatment

Many diseases can cause serious illness to your Gir cow. Diseases that commonly affect Gir cows are:-

Digestive system disease

Diseases related to the digestive system like acidic indigestion, simple indigestion, saline indigestion, constipation,  bloody diarrhoea, and acidity. 

Treatment of acidic indigestion:

 Avoid feeding acidic fodder to animals.

During the start of this disease, feed animals saline elements like baking soda and medicines which will help to energize their liver.

Treatment of simple indigestion:

Feed them spices which will help them to increase their hunger.

Provide them feed which digests easily. 

Treatment of saline indigestion:

 During the preliminary stage of the disease, give light acid such as 5% acetic acid @5-10ml per animal weight or approx 750ml vinegar to cure the disease.

If a brain stroke is occurring and nothing can be seen after giving medicine 2-3 times, then the doctor should do the rumenotomy operation.

Treatment of constipation:

For heavy animals, the scrape of ginger powder@30gm and solution of Magnesium sulphate@800gm is given to animals through the mouth.

In the initial stage give them flax oil@500 ml and don’t let them have dry fodder as a feed and give them more water.

Treatment of bloody diarrhoea:

 Give sulpha medicines through vaccinations or mouth and along with that give more amount of water and glucose@5%.

Sulpha medicines, antibiotics, opiates, iron elements, or tennoform can also be given to get rid of diarrhoea.

Treatment of acidity

If this disease is seen repeatedly in animals then activated charcoal, Dettol water, and 40% formalin@15-30 ml should be given.

Turpentine oil@30-60ml, extract of mustard/flax oil @500ml or asafoetida (heeng)@60ml is given to animals (don’t let them consume too much turpentine oil, this can lead to stomach issues).

Look at the condition and type of disease of the animal, and consult the vet through our app.

Lead poisoning 

The calf is dull and sunken abdominal pain is the major symptom of lead poisoning. It usually occurs when they lick the painted tarpaulins, metalwork, lead batteries, etc.

Treatment

A dose of calcium versenate @25% is given twice a day to cure lead poisoning in sub-acute cases.

Enteritis/Calf scours/ Diarrhoea

In this disease first, the excessive loss of water occurs then acidosis and dehydration and then the cattle die. The disease mainly occurs due to drinking unclean water, unclean hygiene conditions, and poor feeding systems.

Treatment   

proper ventilation and dry bedding are required.

 

Where can I get Gir cow?

If you are looking to purchase Gir cow, then right away pick up your mobile phone and go to the play store, and download the “Animall” app. Register yourself by verifying your phone number and then tap on the cow section where you will find different-different breeds of cow. Then filter out Gir cow breed, calving, and milk capacity, and then select the best cow from the options available.

Bring home the best Gir cow by following these 3 easy steps.

Enter your district or village name or Pincode.

After entering, tap on the cow section. Here choose the breed of Gir cow and select the calving and milk capacity as per your preference.

Now you will start seeing all the cows around you. You can then select any cow of your preference. Go ahead and bring your most preferred Gir cow to your home.

 

How to list my Gir cow for sale?

If you wish to sell your Gir cow, then for that also you can install our“Animall” app. First, you need to register yourself and then go to the sell animals section. After that, enter the milk capacity, rate, and price of your Gir cow. After you are done filling in all the required details, your cow will be registered on the “Animall” app. Anyone interested in purchasing your cow will call you directly.

Apart from selling and purchasing cattle, you can also get all the necessary information related to all the cattle by installing our app. If your cow is not keeping well then you can directly talk to veterinary doctors through our app. You can get the verified cattle at the best quality and affordable rates and that too without paying any commission to any middleman.

… और पढ़ें arrow

जानिए भारत की सबसे दुधारू भैंस की नस्लों से जुड़ी जानकारी

एक दुधारू पशु किसान या पशुपालक की आय को दोगुना कर सकता है। यही कारण भी है कि ज्यादातर पशुपालक अक्सर एक अच्छी नस्ल के दुधारू पशु की खोज करते रहते हैं। अगर आप भी एक पशुपालक हैं और अपनी डेयरी के लिए एक अच्छी नस्ल की देसी भैंस खरीदना चाहते है, तो बता दें कि आप बिल्कुल सही जगह आए हैं।आज हम अपने इस लेख में आपको भारत की कुछ प्रमुख दुधारू भैंस की नस्लों के बारे में बताने वाले हैं। हमारे द्वारा बताई जा रही सभी देसी नस्ल की दूध उत्पादन क्षमता काफी अधिक है। आइए जानते हैं आखिर भारती वह कौन सी भैंस है जो अधिक दूध उत्पादन क्षमता रखती हैं। 

मुर्रा भैंस

इस भैंस का इतिहास भारत के हरियाणा और पंजाब से जुड़ा हुआ है। मुर्रा भैंस की पहचान उसका जेट काला रंग है। मुर्रा भैंस को दुनिया की सबसे अधिक दूध देने वाली भैंस की श्रेणी में गिना जाता है। यह एक ब्यात में 1678 किलो दूध दे सकती है। 

जाफराबादी भैंस

डेयरी उद्योग के कारोबारियों के लिए जाफराबादी भैंस किसी सोने का अंडा देने वाली मुर्गी की तरह है। आपको बता दें कि गुजरात के जामनगर से आने वाली यह भैंस, एक ब्यात में 2150 किलोग्राम तक दूध दे सकती है। इस भैंस के दूध में से 7 से 8 प्रतिशत तक फैट होता है। 

सुरती भैंस 

गुजरात की सुरती भैंस भी पशुपालकों को बेहद पसंद है। यह हर तरह के मौसम में आसानी से रह सकती है। आपको बता दें कि यह भैंस एक ब्यात में 1400 किलोग्राम तक दूध देती है।

मेहसाणा भैंस 

छोट किसान और पशुपालक अक्सर एक शांत स्वभाव की भैंस रखना चाहते हैं। ऐसे पशुपालकों के लिए गुजरात की मेहसाणा भैंस काफी फायदेमंद हो सकती है। आपको बता दें कि मेहसाणा भैंस एक ब्यात में 1200 से 1500 किलो तक दूध दे सकती है। इस भैंस के दूध में 7 प्रतिशत तक फैट भी पाया जाता है। 

भदावरी भैंस 

भदावरी भैंस उन पशुपालकों के लिए बेहद खास है, जो दूध के जरिए घी और दूसरे उत्पाद का कारोबार करते हैं। उत्तर प्रदेश की इस भैंस की न केवल दूध उत्पादन क्षमता अधिक है। बल्कि इसके दूध में 13 प्रतिशत तक फैट पाया जाता है, जो किसी अन्य भैंस के दूध में नहीं होता। 

नागपुरी भैंस 

इस भैंस के नाम से ही कुछ लोग अंदाजा लगा लेते हैं कि नागपुरी भैंस का अस्तित्व महाराष्ट्र से जुड़ा होगा। छोटे पशुपालक इस भैंस को दोहरे काम के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। यह भैंस अपनी एक ब्यात में 1060 किलोग्राम तक दूध दे सकती है। 

तराई भैंस 

तराई नस्ल भैंस की उत्पत्ति तमिलनाडु के नीलगिरी पहाड़ियों से हुई है। तराई भैंस के दूध में भी फैट अधिक मात्रा में पाया जाता है। तराई फैंस अपनी एक ब्यात में करीब 500 से 600 किलो तक दूध दे सकती है। 

हम आशा करते हैं कि किसान और पशुपालक भाइयों को हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई होगी। अगर किसान और पशुपालक भाई ऐसी ही रोचक जानकारियां हासिल करना चाहते हैं तो आप हमारी Animall App को डाउनलोड कर सकते हैं। हमारी इस ऐप के जरिए आप पशु खरीद और बेच भी सकते हैं। इसके अलावा पशु से संबंधित चिकित्सीय सलाह के लिए आप ऐप को उपयोग कर सकते हैं। अब आप चाहें तो इस लिंक के जरिए Animall App डाउनलोड कर सकते हैं।

… और पढ़ें arrow

भारत में कौन-कौन सी गाय की नस्लें हैं?

भारत में लगभग 27 मान्यता प्राप्त गाय की नस्लें हैं:-
(क) दुधारू नस्लें :- रेड सिन्धी, साहीवाल, थरपारकर
(ख) हल चलाने योग्य :- अमृत महल, हैलिकर,कांगयाम
(ग) दुधारू-व-हल योग्य:- हरयाणा कंकरेज, अंगोल

… और पढ़ें arrow

पसू का लेवा कैसे बढ़ाएं | How to improve Udder Tone in Cow and Buffalo

 
… और पढ़ें arrow