पशुओं को कितना चारा पानी देना चाहिए ?

निम्न लिखित अनुसूची अपनाई जानी चाहिए:-
(क) रोज़ का आहार 3-4 भागों में बांटना चाहिए|
(ख) दाना दो बराबर भागों में दिया जाना चाहिए|
(ग) सूखा व हर चारा अच्छी तरह मिलाकर देना चाहिए|
(घ) कमी के समय साईंलेज दिया जाना चाहिए|
(ङ) चारा खिलने के बाद ही दाना देना चाहिए|
(च) औसतन वज़न की गाय को 35-40 लीटर प्रतिदिन पानी की आवश्यकता होती है|

43 लाइक
… और पढ़ें arrow

हम नवजात को पेट के कीड़ों से कैसा बचा सकते है?

पेट के कीड़ों से ग्रस्ति नवजात सुस्त, खाने में कम रूचि, दस्त लगना आदि लक्षण होते हैं तथा सही ईलाज के लिए नज़दीक के पशु चिकित्सक को सम्पर्क करें|

5 लाइक
… और पढ़ें arrow

खुरपका मुंहपका (एफ.एम.डी.) रोग से पशुओं को कैसे बचाया जा सकता है कृपया सुझाव दें?

खुरपका मुंहपका रोग से पशुओं को बचाने के लिए सबसे पहले समय रहते एम.एम.डी. वैक्सीन से टीकाकरण 3 सप्ताह में दूसरी खुराक (बूस्टर) 3 माह की आयु पर लगवाएं इसके बाद प्रत्येक 6 माह बाद टीका करण करवाते रहे|

4 लाइक
… और पढ़ें arrow

परजीवी हमारे पशुओं को किस प्रकार से हानि पहुंचाते हैं?

परजीवी हमारे पशुओं को मुख्यतया निम्न प्रकार से हानि पहुचाते है:
1. पशुओं का खून चूसकर।
2. पशुओं के आन्तरिक अंगों में सूजन पैदा करके।
3. पशुओं के आहार के एक भाग को स्वयं ग्रहण करके।
4. पशुओं की हड्डियो के विकास में बाधा उत्पन्न करके।
5. पशुओं को अन्य बीमारियों के लिये सुग्राही बना कर।

3 लाइक
… और पढ़ें arrow

साईलेस क्या होता है? इसका क्या लाभ है?

वह विधि जिसके द्वारा हरे चारे अपने रसीली अवस्था में ही सिरक्षित रूप में रखा हुआ मुलायम हर चारा होता है जो पशुओं को ऐसे समय खिलाया जाता है जबकि हरे चने का पूर्णतया आभाव होता है। साईलेस के लाभ :
• साईलेस सूखे चारे कि अपेक्षा कम जगह घेरता है।
• इसे पौष्टिक अवस्था में अधिक समय तक रखा जा सकता है।
• साईलेस से कम खर्च पर उच्च कोटि का हरा चारा प्राप्त होता है।
• जड़े के दिनों में तथा चरागाहों के अभाव में पशुओं को आवश्यकता अनुसार खिलाया जा सकता है।

3 लाइक
… और पढ़ें arrow